June 17, 2021

NEWS NOW

ALL NEWS Just ON ONE CLICK

एशियन बॉक्सिंग चैंपियनशिप: पूजा रानी ने जीता स्वर्ण, मैरीकॉम और लालबुतासाही को रजत

1 min read
Spread the love


पूजा रानी ने 75 किग्रा वर्ग में स्वर्ण पदक जीता. (Twitter)

पूजा रानी (Pooja Rani) ने 75 किग्रा में दमदार खेल दिखाते हुए एशियन बॉक्सिंग चैंपियनशिप (Asian Boxing Championship) में गोल्ड मेडल जीता. उन्होंने फाइनल में उज्बेकिस्तान की मुक्केबाज को मात दी. मैरीकॉम और लालबुतासाही को फाइनल मुकाबले में हार के बाद रजत पदक से संतोष करना पड़ा.

दुबई. गत चैंपियन पूजा रानी (Pooja Rani) ने शानदार जीत से एशियाई मुक्केबाजी चैंपियनशिप (Asian Boxing Championship) में लगातार दूसरा स्वर्ण पदक हासिल किया. छह बार की वर्ल्ड चैम्पियन एमसी मैरीकॉम (Mary Kom) को 51 किग्रा भारवर्ग में और टूर्नामेंट में पदार्पण कर रहीं लालबुतसाही (64 किग्रा) को रविवार को फाइनल में हारने के बाद में रजत पदक से संतोष करना पड़ा.

टोक्यो ओलिंपिक के लिए क्वालिफाई कर चुकीं पूजा (75 किग्रा) बाई और वॉकओवर मिलने के बाद टूर्नामेंट का पहला मुकाबला खेल रही थीं. उन्होंने अपने शानदार प्रदर्शन के बूते उज्बेकिस्तान की मावुलडा मोवलोनोवा को पराजित किया. एक मुकाबले में स्वर्ण पदक जीतने से उन्हें 10,000 डॉलर की इनामी राशि मिली. उनकी प्रतिद्वंद्वी के बाद उनके तेजी का कोई जवाब नहीं था.

इससे पहले देश की स्टार मैरीकॉम महिला 51 किग्रा फाइनल में कजाखस्तान की नाजिम किजाइबे से 2-3 के खंडित फैसले से पराजित हो गईं. उन्होंने हालांकि टूर्नामेंट का अपना सातवां पदक हासिल किया. इस दिग्गज मुक्केबाज ने एशियाई चैंपियनशिप में अपना पहला पदक 2003 में जीता था और इस तरह उन्होंने पांच स्वर्ण और दो रजत पदक जीत लिए. लालबुतसाही को भी कजाखस्तान की प्रतिद्वंद्वी मिलाना साफरोनोवा से यादगार भिड़ंत में 2-3 के विभाजित फैसले में हार झेलनी पड़ी. दोनों मुक्केबाजों को पुरस्कार राशि के तौर पर 5000 डॉलर (लगभग 3.6 लाख रुपये) मिले.इसे भी पढ़ें, मैरीकॉम फाइनल में हारीं, एशियन चैंपियनशिप में नहीं जीत सकीं छठा गोल्ड

लालबुतसाही (Lalbutasaihi) को भारतीय टीम में अंत में अनुभवी प्विलाओ बासुमातारी की जगह शामिल किया गया था जिनके पासपोर्ट की समयसीमा समाप्त हो गई थी. मिजोरम की इस मुक्केबाज ने अपनी प्रतिद्वंद्वी को जवाबी हमलों से थका दिया लेकिन अंतिम दौर में लय गंवा बैठीं और उन्हें दूसरे स्थान से संतोष करना पड़ा.

सोमवार को गत चैंपियन अमित पंघल (52 किग्रा), शिव थापा (64 किग्रा) और संजीत (91 किग्रा) पुरूषों के स्वर्ण पदक मुकाबले खेलेंगे. पंघल फाइनल में रियो ओलिंपिक के स्वर्ण पदक विजेता और मौजूदा विश्व चैंपियन उज्बेकिस्तान के मुक्केबाज जोइरोव शाखोबिदीन के खिलाफ जबकि असम के मुक्केबाज थापा को एशियाई खेलों के रजत पदक विजेता मंगोलिया के बातरसुख चिनजोरिग से चुनौती मिलेगी. दूसरे वरीय संजीत का सामना रियो के रजत पदक विजेता वासिली लेविट से होगा, जो एशियाई चैंपियनशिप के अपने चौथे स्वर्ण पदक का लक्ष्य लेकर रिंग में उतरेंगे.









#एशयन #बकसग #चपयनशप #पज #रन #न #जत #सवरण #मरकम #और #ललबतसह #क #रजत

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *