Latest News

September 21, 2021

NEWS NOW

ALL NEWS Just ON ONE CLICK

कैसेट किंग गुलशन कुमार की हत्या के आरोपी नदीम आज तक नहीं लौट पाए भारत।death anniversary Gulshan kumar was famous as cassette king pr– News18 Hindi

1 min read
Spread the love

मुंबई: दिल्ली में पैदा हुए और पले-बढ़े गुलशन कुमार (Gulshan Kuamar) जब अपने पिता के साथ जूस की दुकान पर हाथ बंटा रहे थे तब सोचा भी नहीं था कि एक दिन मायानगरी में राज करेंगे. अपनी मेहनत और लगन से टी-सरीज (T-Series) कंपनी शुरू कर कैसेट किंग बने गुलशन की सफलता ने उनके ढेर सारे दुश्मन बना दिए थे. 12 अगस्त 1997 को मुंबई में गुलशन कुमार पर हत्यारों ने धावा बोल दिया और तब तक गोली मारते रहे जब तक उन्होंने दम नहीं तोड़ा. रिपोर्ट के मुताबिक हत्यारों ने 16 गोलियों से उन्हें छलनी कर दिया था.

नदीम सैफ पर हत्या का आरोप
नदीम-श्रवण की मशहूर जोड़ी की सफलता में गुलशन कुमार का बड़ा हाथ था. कहते हैं कि संगीत की दुनिया में जिस दौर में गुलशन कुमार की तूती बोलती थी उस वक्त नदीम-श्रवण को फिल्म ‘आशिकी’ में संगीत देने का मौका दिया था. इस फिल्म से ही शोहरत हासिल करने वाली जोड़ी गुलशन की पसंदीदा जोड़ी बन गई थी. लेकिन नदीम को गुलशन से ऐसी जाने क्या दुश्मनी हुई कि उन्ही की हत्या के आरोपी बन बैठे. आरोप लगते ही नदीम सैफी ने भारत छोड़ लंदन की शरण ले ली, और आज भी वहीं है. हांलाकि आरोप साबित नहीं हो पाया है. लेकिन कहते हैं कि गुलशन कुमार के हत्या की सुपारी नदीम ने अंडरवर्ल्ड डॉन अबू सलेम को दिया था.

12 अगस्त 1997 का खौफनाक दिन
कहते हैं कि रंगदारी देने से इनकार करने पर अबू सलेम के शूटर ने गुलशन कुमार को मुंबई के अंधेरी इलाके में गोली मार जान ले ली थी. हत्या के समय गुलशन महादेव मंदिर से पूजा कर अपने घर लौट रहे थे. गोली दागने के बाद हत्यारों ने अबू सलेम को चीखें सुनाने के लिए फोन भी किया था. इस घटना का जिक्र हुसैन जैदी की बुक ‘माय नेम इज अबू सलेम’ में किया गया है.

वैष्णों देवी के भक्त थे गुलशन कुमार
कहते हैं कि जिन दिनों गुलशन कुमार सफलता की सीढ़ियां चढ़ रहे थे उन्हीं दिनों मुंबई में अंडरवर्ल्ड का जबरदस्त शिकंजा था. बड़े-बड़े फिल्मकारों से रंगदारी वसूलना आए दिन का काम होता था. दहशत इतनी ज्यादा हुआ करती थी कि इस बारे में कोई मुंह नहीं खोलता था. कहते हैं कि अबू सलेम ने गुलशन से 5 लाख हर महीने देने को कहा था. इस पर गुलशन ने कहा था कि इतने रुपए से वैष्णों देवी मंदिर में भंडारा करवाऊंगा लेकिन तुम्हे रुपए नहीं दूंगा.

ये भी पढ़िए-राजेश खन्ना का जादू सिर चढ़कर बोलता था, फैंस उनके स्टाइल को किया करते थे कॉपी

मुंबई पुलिस को हत्या प्लान की जानकारी खबरी ने दी थी
मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर राकेश मारिया ने गुलशन कुमार हत्याकांड  पर अपनी किताब ‘लेट मी से इट नाउ’ (Let Me Say It Now) में लिखा है कि क्राइम ब्रांच को पहले से ही गुलशन कुमार के हत्या के प्लान की जानकारी थी. राकेश मारिया ने अपनी किताब में लिखा है कि ’22 अप्रैल 1997 को उनके पास एक खबरी का फोन आया. उस खबरी ने उन्हें बताया कि गुलशन कुमार की हत्या का प्लान बनाया गया है. ये पूछने पर कि इसके पीछे कौन है, खबरी ने बताया- अबू सलेम. खबरी ने बताया था कि शिव मंदिर जाते वक्त उनकी हत्या का प्लान बनाया गया है’.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed