August 1, 2021

NEWS NOW

ALL NEWS Just ON ONE CLICK

लक्षद्वीप प्रशासन ने फिल्मकार आयशा सुल्ताना की अग्रिम जमानत याचिका का किया विरोध

1 min read
Spread the love


सुल्ताना ने अपनी याचिका में कहा था कि अगर वह कवरत्ती जाती हैं तो उन्हें गिरफ्तार किए जाने की आशंका है. (File Photo)

प्रशासन ने कहा कि आयशा सुल्ताना (Aisha Sultana) ने केंद्र सरकार के खिलाफ गंभीर परिणाम वाला एक आधारहीन बयान दिया. एंकर के चेतावनी देने के बावजूद, उन्होंने कहा कि वे अपनी बात पर कायम है और वह ऐसा बयान देने के लिए किसी भी कार्रवाई का सामना करने के लिए तैयार हैं.’

कोच्चि. लक्षद्वीप प्रशासन ने फिल्मकार आयशा सुल्ताना (Aisha Sultana) की अग्रिम जमानत याचिका का विरोध करते हुए बुधवार को केरल हाईकोर्ट (Kerala High Court) में एक बयान दाखिल किया. लक्षद्वीप पुलिस ने सुल्ताना के खिलाफ राजद्रोह का मामला दर्ज किया है. प्रशासन ने अपने बयान में कहा कि जमानत याचिका विचार करने योग्य नहीं है क्योंकि याचिकाकर्ता ने कोई भी वास्तविक और विश्वास करने योग्य कारण नहीं बताया कि उन्हें गिरफ्तार किया जाएगा. इसमें कहा गया है कि कवरत्ती में रहने वाले एक राजनीतिक नेता द्वारा दर्ज कराई गई एक शिकायत के आधार पर आईपीसी की धारा 124-ए (देशद्रोह) और 153 बी (अभद्र भाषा) के तहत आरोपों के आधार 9 जून को मामला दर्ज किया गया था.

एक नेता ने फिल्मकार के खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज कराते हुए आरोप लगाया था कि 7 जून को एक टीवी परिचर्चा के दौरान आयशा सुल्ताना ने केंद्र शासित प्रदेश में कोविड​​​​-19 के प्रसार को लेकर गलत खबर फैलायी है. शिकायत में कहा गया था कि एक मलयालम चैनल पर चर्चा के दौरान सुल्ताना ने कथित तौर पर कहा था कि केंद्र सरकार ने लक्षद्वीप के लोगों के खिलाफ जैविक हथियार का इस्तेमाल किया है.

प्रशासन ने बयान में कहा कि सुल्ताना ने कानून द्वारा स्थापित केंद्र सरकार के खिलाफ गंभीर परिणाम वाला एक आधारहीन बयान दिया. इसमें कहा गया है, ‘एंकर द्वारा चेतावनी दिए जाने के बावजूद, उन्होंने कहा कि उन्होंने जो कहा वह उस पर कायम है और यह भी कहा कि वह ऐसा बयान देने के लिए किसी भी कार्रवाई का सामना करने के लिए तैयार हैं.’

इसमें कहा गया है, ‘याचिकाकर्ता (सुल्ताना) द्वारा निराधार दावा भारत सरकार के प्रति लक्षद्वीप के लोगों में घृणा या अवमानना ​​को पैदा करने के लिए पर्याप्त है.’ प्रशासन ने कहा कि इसे प्रथम दृष्टया भारत सरकार के प्रति लोगों में असंतोष पैदा करने का प्रयास माना जा सकता है. सुल्ताना ने अपनी याचिका में कहा था कि अगर वह कवरत्ती जाती हैं तो उन्हें गिरफ्तार किए जाने की आशंका है. पुलिस ने उन्हें 20 जून को कवरत्ती थाने में पेश होने के लिए कहा है. अदालत गुरुवार को उनकी जमानत याचिका पर विचार करेगी.







#लकषदवप #परशसन #न #फलमकर #आयश #सलतन #क #अगरम #जमनत #यचक #क #कय #वरध

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *