September 22, 2021

NEWS NOW

ALL NEWS Just ON ONE CLICK

Afghans in India anxious as Taliban intensifies attacks | तालिबान के हमले तेज होने से परेशान में भारत में रह रहे अफगानिस्तान के नागरिक

1 min read
Spread the love


Taliban, Afghans in India, Afghans in India Taliban, Taliban attacks Afghanistan- India TV Hindi
Image Source : PTI FILE
भारत में हजारों अफगान शरणार्थी और शरण चाहने वाले लोग भय और अनिश्चितता में जी रहे हैं।

नई दिल्ली: भारत में हजारों अफगान शरणार्थी और शरण चाहने वाले लोग भय और अनिश्चितता में जी रहे हैं, क्योंकि तालिबान ने अफगान सरकारी बलों पर अपने हमले तेज कर दिए हैं और युद्धग्रस्त देश में और अधिक क्षेत्रों पर कब्जा कर लिया है। डीडब्ल्यू की रिपोर्ट में कहा गया है कि कई अफगान शरणार्थी और शरण चाहने वाले दिल्ली के विभिन्न इलाकों में रहते हैं और वे रेस्तरां, बेकरी और मिष्ठान्न की दुकानें चलाते हैं। रिपोर्ट में कहा गया है कि सुरक्षा कारणों से अफगानिस्तान से भागने के बाद सैकड़ों अफगान परिवारों ने पिछले कुछ वर्षों में खिड़की एक्सटेंशन के आसपास अपना आशियाना बना लिया है।

तालिबान के आगे बढ़ने की ताजा खबरों ने इन अफगानों को डरा दिया है और वे अपने रिश्तेदारों के घर वापस जाने को लेकर चिंतित हैं। भारत में रहने वाले अधिकांश अफगानों के लिए अंतिम लक्ष्य अमेरिका या यूरोप में फिर से बसना है, जहां उनका मानना है कि अधिक आर्थिक अवसर हैं। लेकिन कोविड-19 महामारी को देखते हुए कई देशों ने यात्रा और प्रवास के लिए अपने दरवाजे बंद कर लिए हैं। एक छात्र रोसाना ने डीडब्ल्यू को बताया, ‘मैं जानती हूं कि मेरे अपने वतन वापस जाने की संभावना पूरी तरह से खत्म हो गई है। मैं बस यही चाहती हूं कि मेरे दोस्त और रिश्तेदार सुरक्षित रहें।’

नसीम ने डीडब्ल्यू से कहा, ‘जब हम ऐसी खबरें सुनते हैं तो यह डरावना लगता है। मैं अपने माता-पिता के बारे में सोचता हूं जो अभी भी पूर्वोत्तर अफगानिस्तान में पंजशीर घाटी में हैं। हालांकि वह इस समय वहां सुरक्षित है, मैं इतिहास को खुद को दोहराते हुए नहीं देखना चाहता।’ वह 3 साल पहले दिल्ली आए थे और उम्मीद कर रहे हैं कि वह अपने माता-पिता को भी ला सकें, जो कि मौजूदा परिस्थितियों में संभव नहीं है। हजारों अफगान शरणार्थी और शरण चाहने वाले, जिनमें से अधिकांश हिंदू या सिख धर्मों से संबंधित हैं, जो अफगानिस्तान में धार्मिक अल्पसंख्यक हैं, ने पिछले एक दशक में भारत को अपना घर बना लिया है।

संयुक्त राष्ट्र उच्चायुक्त के अनुसार, शरणार्थियों के लिए 2019 में भारत में लगभग 40,000 शरणार्थी और शरण चाहने वाले पंजीकृत थे और अफगान दूसरा सबसे बड़ा समुदाय था, जिसमें 27 प्रतिशत शामिल थे। आदिला बशीर, जो एक ट्रैवल एजेंसी के लिए काम करतीं हैं, ने भी डीडब्ल्यू से बात की। उन्होंने कहा, ‘हम सुरक्षा और बेहतर जीवन की तलाश में अपने युद्धग्रस्त देश से भाग गए थे। अपने जीवन और घरों को त्यागने के साथ आने वाले संघर्षों के बावजूद, हम में से कई लोगों ने छोटी नौकरियां पाई हैं या अपना खुद का व्यवसाय भी खोला है। लेकिन कोई सुरक्षा नहीं है और कल क्या हो सकता है, यह बताने वाला कोई नहीं है।’

पिछले कुछ हफ्तों में, विद्रोहियों ने ईरान, पाकिस्तान और तुर्कमेनिस्तान के साथ अफगानिस्तान की सीमाओं के साथ 14 सीमा शुल्क चौकियों में से कम से कम आठ पर नियंत्रण हासिल कर लिया है। देश के दक्षिण में सबसे बड़े प्रांतों में से एक, हेलमंद में तालिबान ने 12 जिलों पर कब्जा कर लिया है और इसी चीज को लेकर लोग चिंतित हैं। फार्मास्युटिकल वर्कर वज्मा अब्दुल ने डीडब्ल्यू को बताया, ‘हमने रिपोर्टें सुनी हैं कि तालिबान ने अपने कब्जे वाले जिलों में महिलाओं पर कठोर प्रतिबंध लगा रहे हैं और स्कूलों में आग लगा रहे हैं। यह परेशान करने वाला और बुरे समय का एक फ्लैशबैक है।’ अब्दुल अपने भाई बशीर के साथ 2014 में दिल्ली चली गईं, लेकिन उसकी चाची और चाचा अभी भी अफगानिस्तान में रहते हैं।

अब्दुल ने कहा, ‘मैं उनके बारे में चिंता करना बंद नहीं कर सकती और टेलीफोन लाइनें इतने लंबे समय से बंद हैं। ये बहुत कठिन समय है।’ लड़ाई ने कई लोगों को अपने घरों से भागने के लिए भी मजबूर किया है और वर्ष की शुरूआत से लगभग 300,000 अफगान विस्थापित हुए हैं। दिल्ली के एक किराना स्टोर डीलर इदरीस हसन, जो मूल रूप से मजार-ए-शरीफ से संबंध रखते हैं, ने डीडब्ल्यू से कहा, मेरे गांव के कई लोग तालिबान द्वारा मारे गए हैं और कई लापता हैं। तालिबान जिस तरह से आगे बढ़ रहा है वह बहुत ही भयावह है और मैं पूरी तरह से असहाय महसूस कर रहा हूं। हसन ने कहा, ‘मेरे पास यह जानने का कोई तरीका नहीं है कि जमीन पर क्या हो रहा है और मुझे नहीं पता कि किस पर विश्वास करूं। मैं लगातार डर में जी रहा हूं।’ (IANS)

https://www.youtube.com/watch?v=bPs8-nJKIl0





UNITED STATES AMAZING STUFF

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *