NEWS NOW

ALL NEWS Just ON ONE CLICK

Archaeological Survey of India ने ऐतिहासिक धरोहरों को खोलने का आदेश दिया, जानें कब से खुलेंगी?

1 min read
Spread the love


कोरोना के लिए जारी एसओपी का पालन अनिवार्य रूप से करना होगा

Archaeological Survey of India (ASI) की संरक्षित सभी धरोहरों को 16 जून से खोलने का निर्णय लिया है. केंद्रीय संस्कृति मंत्रालय और एएसआई ने ऐतिहासिक इमारतों को खोलने की जानकारी दी है. यहां जाने वाले लोगों को कोरोना गाइड लाइन का पालन अनिवार्य रूप से करना होगा.

नई दिल्‍ली. आर्कियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया (Archaeological Survey of India) की संरक्षित सभी इमारतें 16 जून से खोल दी जाएंगी. लोग इन ऐतिहासिक धरोहरों के दीवार कर सकेंगे. अप्रैल में कोरोना की वजह बंद सभी संरक्षित इमारतें बंद कर करने का निर्णय लिया गया था. इस संबंध में आर्कियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया (एएसआई) सोमवार को आदेश जारी कर दिया है. साथ ही कोरोना गाइड लाइन का अनिवार्य रूप से पालन करने को कहा गय है.

कोरोना की दूसरी लहर की वजह से 15 अप्रैल से आर्कियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया (ASI) ने संरक्षित सभी संरक्षित स्मारक/स्थल और संग्रहालय बंद करने का निर्णय लिया गया था. हालांकि पहले यह मई मध्‍य तक था, बाद में 31 मई और फिर 15 जून तक बंद करने का फैसला लिया गया था. चूंकि अब देश में कोरोना का असर धीरे धीरे कम हो रहा है, इसलिए आर्कियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया (ASI) ने सभी संरक्षित स्मारक/स्थल और संग्रहालय को खोलने का निर्णय लिया है. केंद्रीय संस्कृति मंत्री प्रह्लाद सिंह पटेल ने ट्वीट कर इसकी जानकारी दी है.

देश में कोरोना का असर धीरे धीरे कम हो रहा है, इसलिए आर्कियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया (ASI) ने सभी संरक्षित स्मारक/स्थल और संग्रहालय को खोलने का निर्णय लिया है.

देश में कोरोना का असर धीरे धीरे कम हो रहा है, इसलिए आर्कियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया (ASI) ने सभी संरक्षित स्मारक/स्थल और संग्रहालय को खोलने का निर्णय लिया है.

आदेश में यह भी कहा गया है कि इन स्‍थलों पर आने वाले लोगों को केन्‍द्र, केन्‍द्र या राज्‍य शासित मंत्रालय की कोरोना को लेकर जारी एसओपी का पालन अनिवार्य रूप से करना होगा. साथ ही, जिला या आपदा प्रबंधन की गाइड लाइन के अनुसार ही संरक्षित इन सभी धरोहरों में एंट्री मिलेगी.







#Archaeological #Survey #India #न #ऐतहसक #धरहर #क #खलन #क #आदश #दय #जन #कब #स #खलग

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *