August 5, 2021

NEWS NOW

ALL NEWS Just ON ONE CLICK

B’Day Special: हेमंत कुमार के वो सदाबहार गीत जिसे बार-बार सुनना चाहेंगे आप, ‘है अपना दिल तो..’ सॉन्ग है सबसे खास

1 min read
Spread the love


हेमंत कुमार मुखोपाध्याय की 101वीं जयंती है. फोटो साभार: @an.incognito.writer instagram

हेमंत कुमार (Hemanta Kumar Mukhopadhyay Birthday) की आवाज बहुत ही मधुर थी. हेमंत कुमार ने हिंदी और बंगाली सिनेमा को एक से एक बेहतरीन गाने दिए. आज उनकी 101वीं जयंती है.

मुंबई. सुरों के बादशाह हेमंत कुमार मुखोपाध्याय (Hemanta Kumar Mukhopadhyay) एक प्रसिद्ध गायक होने के साथ-साथ एक संगीतकार और फिल्म निर्माता भी थे. उन्होंने हिंदी फिल्मों में अनेक गीत गाए थे. आज उनकी 101वीं जयंती है. हेमंत कुमार का जन्म वाराणसी में हुआ था. उनका परिवार पश्चिम बंगाल के बहारू गांव से संबंध रखता था. बीसवीं सदी के शुरुआती दिनों में ही उनका परिवार कोलकाता आकर बस गया. हेमंत कुमार कोलकाता में ही पले-बढ़े और यहीं शिक्षा पाई.

हेमंत कुमार (Hemanta Kumar Mukhopadhyay Birthday) की आवाज बहुत ही मधुर थी. हेमंत कुमार ने हिंदी और बंगाली सिनेमा को एक से एक बेहतरीन गाने दिए. हिंदी सिनेमा की बात करें तो उन्होंने, ‘है अपना दिल तो आवारा’, ‘बेकरार करके हमें यूं न जाइये’, ‘याद किया दिल ने’, ‘आओ बच्चों तुम्हें दिखाएं’ जैसे कई हिट गाने गाए और उनका म्यूजिक भी दिया. आज जन्मदिन पर सुनते हैं उनके कुछ बेहतरीन गाने.

Youtube Video

कोलकाता में उनकी मुलाकात उनके गहरे दोस्त सुभाष मुखोपाध्याय से हुई जो बाद में लेखक बन गए. इंटरमीडिएट पास करने के बाद हेमंत कुमार ने यादवपुर विश्वविद्यालय में अभियांत्रिकी की पढ़ाई के लिए प्रवेश लिया.

Youtube Video

कुछ दिनों तक उन्होंने साहित्य में भी हाथ आजमाया और उनकी कई लघुकथाएं बंगाली पत्र-पत्रिकाओं में छपी. लेकिन तीस के दशक में उन्होंने स्वयं को संगीत के प्रति समर्पित कर दिया.

Youtube Video

अपने मित्र सुभाष मुखोपाध्याय के प्रभाव में आकर हेमंत कुमार ने 1933 में ऑल इंडिया रेडियो के लिए अपना पहला गीत रिकॉर्ड करवाया.

Youtube Video

हेमंत कुमार को बंगाली संगीतकार शैलेस दासगुप्ता से काफी प्रेरणा मिली. 1980 के दशक में टेलीविजन पर प्रसारित एक इंटरव्यू में हेमंत कुमार ने कहा कि उन्होंने उस्ताद फैय्याज खान से शास्त्रीय संगीत की शिक्षा ली, लेकिन उस्ताद की मौत के बाद उनका ये क्रम टूट गया.

Youtube Video

उन्होंने 1944 में बंगला फिल्म प्रिया बंगधाबी के लिए पहली बार रवींद्र संगीत रिकॉर्ड कराया.









#BDay #Special #हमत #कमर #क #व #सदबहर #गत #जस #बरबर #सनन #चहग #आप #ह #अपन #दल #त #सनग #ह #सबस #खस

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *