September 23, 2021

NEWS NOW

ALL NEWS Just ON ONE CLICK

Case against many leaders including TMC General Secretary Abhishek Banerjee in Tripura, accused of misbehaving with police – त्रिपुरा में TMC महासचिव अभिषेक बनर्जी समेत कई नेताओं के खिलाफ केस, पुलिस के साथ दुर्व्यवहार का आरोप

1 min read
Spread the love

त्रिपुरा पुलिस ने तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) के महासचिव अभिषेक बनर्जी, पश्चिम बंगाल के शिक्षा मंत्री ब्रत्य बसु, सांसद डोला सेन, पार्टी प्रवक्ता कुणाल घोष और अन्य पर पुलिस के साथ कथित रूप से दुर्व्यवहार करने के आरोप में मामला दर्ज किया है। 14 टीएमसी कार्यकर्ताओं को कथित तौर पर कोविड मानदंडों का उल्लंघन करने और शनिवार को राष्ट्रीय राजमार्ग अवरुद्ध करने के आरोप में गिरफ्तारी के दो दिन बाद यह कार्रवाई हुई है।

Indianexpress.com से बात करते हुए, खोवाई जिले के पुलिस अधीक्षक किरण कुमार ने कहा कि उन पर आईपीसी की धारा 186 (सार्वजनिक कार्यों के निर्वहन में लोक सेवक को बाधित करना) के तहत मंगलवार को एक प्राथमिकी दर्ज की गई थी। भाजपा प्रवक्ता नबेंदु भट्टाचार्य के यह कहने कि टीएमसी नेताओं ने त्रिपुरा की यात्रा के दौरान पुलिस अधिकारियों के साथ कथित तौर पर दुर्व्यवहार किया था, के तुरंत बाद प्राथमिकी दर्ज की गई थी।

टीएमसी सदस्य धलाई जिले के अंबासा से अगरतला लौट रहे थे, तभी सत्तारूढ़ भाजपा समर्थकों के साथ झड़प में युवा नेता सुदीप राहा और जया दत्ता घायल हो गए। खोवाई जिले की एक स्थानीय अदालत ने बाद में उसी दिन गिरफ्तार किए गए सभी 14 टीएमसी कार्यकर्ताओं को जमानत और अंतरिम जमानत दे दी और पुलिस को अगली सुनवाई पर केस डायरी जमा करने को कहा।

घटना के बाद कोलकाता से हवाई जहाज से खोवाई पहुंचे अभिषेक बनर्जी ने आरोप लगाया कि उनकी पार्टी के कार्यकर्ताओं पर भाजपा समर्थकों ने हमला किया और उसके बाद पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया। बाद में वह उसी दिन जमानत पर बाहर आए अपने सभी पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ कोलकाता लौट आए।

पार्टी नेता सुबल भौमिक, जिन पर भी मामला दर्ज किया गया है, ने बयान देते हुए कहा कि टीएमसी कार्यकर्ताओं को परेशान किया जा रहा है। उन्हें झुठे मामले में फंसाया जा रहा है। “हमने उस दिन पुलिस अधिकारियों की ड्यूटी में कोई बाधा नहीं पैदा की। 48 घंटे बाद, उन्होंने हम पर धारा 186 के तहत केस दर्ज कर लिया किया।

उन्होंने कहा, “ये आरोप निराधार हैं और टीएमसी के खिलाफ राजनीतिक उद्देश्यों के लिए पुलिस प्रशासन का दुरुपयोग किया जा रहा है।”





Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *